Mar 7, 2011

डा. नागेश पांडेय ' संजय ' जी द्वारा रचित एक शिशुगीत : ब्रेक-फास्ट


ब्रेक-फास्ट



चालीस पूडी - बीस कचौड़ी , 
मिनटों में खा जाते हैं . 
इसीलिए तो मोटू भैया , 
पेटू जी कहलाते हैं . 
एक बार की बात इन्होंने , 
दही दस किलो खाया . 
बनी मजे की बात उसे जब , 
ब्रेक-फास्ट बतलाया. 
********

~~~~~~~~~~

अब इस गीत को सुनिए मेरे अंदाज़ में :) 


10 comments:

rashmi ravija said...

bahut sundar kavita....aur tumne gaya bhi badhiya

abhi said...

कविता गा के सुनाने लगी हो...मतलब अब बड़ा होने के बाद कविता भी लिखोगी...गुड है :) :)

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत अच्छा जी, कविता में ही इतना अधिक खा लिया।

ADITI CHAUHAN said...

चालीस पूडी - बीस कचौड़ी ,
मिनटों में खा जाते हैं .
ha..ha..ha..ha..ha
hey god ye to record ho gaya

bahut sundar
aap men to bahut talent hai
waah very good

डॉ. नागेश पांडेय "संजय" said...

आपको जितना भी धन्यवाद कहूँ , कम है । दिल खुश हो गया । वाह जी वाह !

Dr Varsha Singh said...

वाह..क्या खूब ......

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर गाना| धन्यवाद |

रावेंद्रकुमार रवि said...

बहुत सुंदर!

shekhar suman said...

वाह इशु, बड़ों वाले लक्षण दिखने लगे हैं...:D
खूब तरक्की करो...

अनुष्का 'ईवा' said...

जीतनी मजेदार कविता है उतना अच्छा ही गया :)