May 1, 2010

छुट्टियों में मस्ती


छुट्टियों में की बाइक राइडिंग






और ये रही मेरी स्वीट स्माइल :)
फिर दोस्तों के साथ McDonald party और खूब खायी आइसक्रीम                                    
                                                                                                                                                                                                                                                  



अरे ये रोनाल्ड के बाल लाल कैसे...
लगता है इसने सौस बर्गर की जगह अपने बाल में लगा लिया :D:D


और ये देखो मैंने कुछ drawings भी करी और अपनी गुडियों को भी सिखाया :)  

11 comments:

Ram Krishna Gautam said...

Happy Summer Vacation Gudia... Enjoy...


And What About My drawing?? Bana Lia ya nahi... I Am Waiting...



"RAM"

नवगीत की पाठशाला said...
This comment has been removed by the author.
रावेंद्रकुमार रवि said...

यहाँ आकर -

मेरा मन मुस्काया!

रावेंद्रकुमार रवि said...

मनभावन होने के कारण
चर्चा मंच पर

मेरा मन मुस्काया!

शीर्षक के अंतर्गत
इस पोस्ट की चर्चा की गई है!

अक्षिता (पाखी) said...

ये हुई न मस्ती वाली बात...हुर्रे...
______________
'पाखी की दुनिया' में 'वैशाखनंद सम्मान प्रतियोगिता में पाखी' !

माधव said...

तसवीरें अच्छी और प्यारी है , छुट्टी का सही उपयोग ऐसे ही होता है . पर लू से बचना .

MUFLIS said...

wow !!
just childlike...
captivating . . . .

यशवन्त मेहता "फ़कीरा" said...

प्यारी गुडिया आज तुम्हारे ब्लॉग पर पहली बार आया, बच्चो के ब्लॉग भी मुझे अब धीरे धीरे मिल रहे हैं, ढूढने पड़ते हैं न बाबा......लाविज़ा, पाखी, माधव और जादू के ब्लॉग के बाद अब आपका ब्लॉग.....बहुत अच्छे लगते हैं मुझे आप सबके ब्लोग्स......

यशवन्त मेहता "फ़कीरा" said...

तुम बड़े हो जाओगे और जब ये पोस्ट्स देखोगे और कमेंट्स देखोगे तो कितना अच्छा फील करोगे मैं बता नहीं सकता......काश हमारे टाइम में भी ब्लॉग होता.....मतलब बचपन में.....तो हम अभी तक कितने पुराने ब्लोगर हो चुके होते......हा हा हा
और छुट्टियों में खूब मजे कर रही हो......थोडा बर्गर- वर्गर कम खाना.......आइसक्रीम जितनी मर्जी खाओ.....कौन सा फ्लेवर पसंद हैं गुडिया रानी.......रिप्लाई जरुर करना......मुझे बहुत अच्छा लगेगा

Saba Akbar said...

तो छुट्टियों के मजे लिए जा रहे हैं... :)

उम्मेद गोठवाल said...

प्यारी गुङिया बहुत अच्छा लगा आपके ब्लाग पर आकर........आज की भाग-दौङ भरी जिन्दगी में आपका ब्लाग मन को सुकून देता है.......बङा प्यारा गाती हो सुनकर मैं तो भावविभोर हो गया.........बचपन को बचाने का बेहतरीन प्रयास.......ढेरों शुभकामनाएं।